आपकी उपयोगी रचनाओं एवं टिप्पणियों का स्वागत है.

उपयोगी सूचना

हिन्दी भाषा के समाचारपत्र तथा पत्रिकाएं यदि अपने प्रकाशनों के लिए ‘मीडिया केयर नेटवर्क’, ‘मीडिया एंटरटेनमेंट फीचर्स’ तथा ‘मीडिया केयर न्यूज’ की सेवाएं नियमित प्राप्त करना चाहें तो हमसे ई-मेल द्वारा सम्पर्क करें। आपके अनुरोध पर सेवा शुल्क संबंधी तथा अन्य अपेक्षित जानकारियां उपलब्ध करा दी जाएंगी।

हम इन फीचर एजेंसियों के डिस्पैच में निम्नलिखित विषयों पर रचनाएं प्रसारित करते हैं तथा डिस्पैच कोरियर अथवा ई-मेल द्वारा उपलब्ध कराए जाते हैं:-

राजनीतिक लेख, रिपोर्ट एवं विश्लेषणात्मक टिप्पणी, राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय चर्चा, सामयिक लेख, फिल्म लेख एवं स्टार इंटरव्यू, फिल्म गॉसिप, ज्ञानवर्द्धक एवं मनोरंजक लेख, रहस्य-रोमांच, घर परिवार, स्वास्थ्य, महिला जगत, युवा जगत, व्यंग्य, कथा-कहानी, मनोरंजन, कैरियर , खेल, हैल्थ अपडेट, खोज खबर, महत्वपूर्ण दिवस, त्यौहारों अथवा अवसरों पर लेख, बाल कहानी, बाल उपयोगी रचनाएं, रोचक जानकारियां इत्यादि।

लेखक तथा पत्रकार विभिन्न विषयों पर अपनी उपयोगी अप्रकाशित रचनाएं प्रकाशनार्थ ई-मेल द्वारा भेज सकते हैं।
Share/Bookmark

अभी तक यहां आए पाठक

Friday, April 15, 2011

जहां मिलता है सबसे सस्ता भोजन

क्या आप बता सकते हैं कि भारत का वो एकमात्र स्थान कौनसा है, जहां उत्तम क्वालिटी का भोजन सबसे सस्ता मिलता है? यदि आप जानते हैं तो इस बारे में विस्तार से बताएं। इस बारे में हम आपको विस्तार से तीन दिन बाद बताएंगे।

9 comments:

गजेन्द्र सिंह said...

संसद भवन की कैंटीन

गजेन्द्र सिंह said...

जी हां संसद भवन की कैंटीन में यह संभव है, भले ही भोजन देश में गरीबों की पहुंच से दूर होता जा रहा है।

गजेन्द्र सिंह said...

सांसदों को निश्चित रूप से सस्ता खाना मिलता है। परंतु याद रहे यह सुविधा केवल सांसदों के लिए ही नहीं है। संसद के कर्मचारी, सुरक्षाकर्मी और मान्यता प्राप्त पत्रकार भी इस सुविधा का लाभ उठाते हैं, वहीं आम आदमी इन कीमतों के बारे में सोच भी नहीं सकता।

गजेन्द्र सिंह said...

कीमतों का नमूना तो देखिए-
दाल, सब्जी, चार चपाती, चावल या पुलाव, दही और सलाद के साथ शाकाहारी थाली 12.50 रुपये
मांसाहारी थाली --- 22 रुपये
दही चावल --- 11 रुपये
वेज पुलाव --- आठ रुपये,
चिकन बिरयानी--- 34 रुपये,
फिश करी,चावल --- 13 रुपये,
राजमा चावल --- सात रुपये,
चिकन करी --- 20.50 रुपये
चिकन मसाला -- 24.50 रुपये
बटर चिकन --- 27 रुपये
चपाती --- १ रुपये
एक प्लेट चावल --- २ रुपये
डोसा ---- ४ रुपये
खीर ----- 5.50 रुपये/कटोरी
छोटा फ्रूट केक ---- 9.50 रुपये
फ्रूट सलाद ---- 7.०० रुपये

गजेन्द्र सिंह said...

ध्यान रहे ये कीमत उन लोगों के लिए है जिनकी महीने की तनख्वाह करीब 5०,००० रुपये है.... और ये तो सफ़ेद कमाई है, काले धन का तो पता ही नहीं....


न जाने ये कैसे विडंबना है | ऐसा नहीं कि ये खबर मीडिया से दूर है लेकिन जो पत्रकार यहाँ खुद छककर भोजन करते हैं वो भला क्यूँ इसे मुख्य खबर बनायेंगे |

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ said...

जवाब तो आ चुका।

---------
भगवान के अवतारों से बचिए!
क्‍या सचिन को भारत रत्‍न मिलना चाहिए?

योगेश कुमार गोयल said...

@गजेन्द्र सिंह

जी गजेन्द्र जी,
बिल्कुल सही फरमाया आपने. यह इस देश की विड़म्बना ही है कि एक ओर जहां इस देश में करोड़ों लोगों को एक समय का भरपेट भोजन भी नसीब नहीं होता, वहीं लोकतंत्र के सबसे बड़े मंदिर ‘संसद भवन’ की कैंटीन में एक से बढ़कर एक लजीज व्यंजन न्यूनतम मूल्य पर उपलब्ध हैं लेकिन आम जनता के लिए नहीं बल्कि 50 हजार से अधिक मासिक वेतन लेने वाले सांसदों, संसद की कार्यवाही को कवर करने वाले मान्यता प्राप्त पत्रकारों, सुरक्षा कर्मियों और संसद भवन में काम करने वाले कर्मियों को ही लगभग मुफ्त बराबर यह लजीज भोजन उपलब्ध होता है.
क्या यह इस देश की गरीब जनता के साथ एक भद्दा मजाक नहीं!

महेश बारमाटे "माही" said...

ha ha... jawab to aa chuka hai...
sabse sasta bhojan unke liye jinki masik aay (legal monthly income) kareeb 80000 Rs hai...

महेश बारमाटे "माही" said...

ha ha... jawab to aa chuka hai...
sabse sasta bhojan unke liye jinki masik aay (legal monthly income) kareeb 80000 Rs hai...

समय बहुमूल्य है, अतः एक-एक पल का सदुपयोग सार्थक कार्यों में करें.