आपकी उपयोगी रचनाओं एवं टिप्पणियों का स्वागत है.

उपयोगी सूचना

हिन्दी भाषा के समाचारपत्र तथा पत्रिकाएं यदि अपने प्रकाशनों के लिए ‘मीडिया केयर नेटवर्क’, ‘मीडिया एंटरटेनमेंट फीचर्स’ तथा ‘मीडिया केयर न्यूज’ की सेवाएं नियमित प्राप्त करना चाहें तो हमसे ई-मेल द्वारा सम्पर्क करें। आपके अनुरोध पर सेवा शुल्क संबंधी तथा अन्य अपेक्षित जानकारियां उपलब्ध करा दी जाएंगी।

हम इन फीचर एजेंसियों के डिस्पैच में निम्नलिखित विषयों पर रचनाएं प्रसारित करते हैं तथा डिस्पैच कोरियर अथवा ई-मेल द्वारा उपलब्ध कराए जाते हैं:-

राजनीतिक लेख, रिपोर्ट एवं विश्लेषणात्मक टिप्पणी, राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय चर्चा, सामयिक लेख, फिल्म लेख एवं स्टार इंटरव्यू, फिल्म गॉसिप, ज्ञानवर्द्धक एवं मनोरंजक लेख, रहस्य-रोमांच, घर परिवार, स्वास्थ्य, महिला जगत, युवा जगत, व्यंग्य, कथा-कहानी, मनोरंजन, कैरियर , खेल, हैल्थ अपडेट, खोज खबर, महत्वपूर्ण दिवस, त्यौहारों अथवा अवसरों पर लेख, बाल कहानी, बाल उपयोगी रचनाएं, रोचक जानकारियां इत्यादि।

लेखक तथा पत्रकार विभिन्न विषयों पर अपनी उपयोगी अप्रकाशित रचनाएं प्रकाशनार्थ ई-मेल द्वारा भेज सकते हैं।
Share/Bookmark

अभी तक यहां आए पाठक

Sunday, August 28, 2011

अन्ना ने लिख डाला इतिहास में एक नया अध्याय






सोई हुई सरकार को गहरी नींद से जगाकर आजादी के बाद देश के इतिहास में एक नया अध्याय लिखने पर अन्ना एवं समस्त देशवासियों को बधाई.  अन्ना तुझे सलाम!
 
देश को ‘दूसरी आजादी’ दिलाने के लिए अन्ना के योगदान एवं तप को यह देश सदैव याद रखेगा और अन्ना का नाम देश के इतिहास में स्वर्णाक्षरों में लिखा जाएगा.  वैसे भ्रष्टाचार के खिलाफ यह जंग अभी बहुत लंबी चलेगी.
 
कहां गए अन्ना को भ्रष्ट, जाहिल और भगोड़ा हवलदार कहने वाले कांग्रेस के सिपहसालार?
 
जय हो अन्ना! जय हो जनता जनार्दन!! जय भारत!!!

Tuesday, August 23, 2011

क्यों पड़ी देश को अन्ना की जरूरत?


मनमोहन जी, ये अनशन है, कोई प्रायोजित कार्यक्रम नहीं

- डा. भरत मिश्र प्राची (मीडिया केयर नेटवर्क)

देश से भ्रष्टाचार को जड़ से मिटाने के लिए जन लोकपाल विधेयक को लेकर अनशन के मार्ग पर उतरे अन्ना हजारे के साथ सरकार क्या-क्या खेल खेल रही है, सभी के सामने है। कभी पुलिस से पकड़वाकर जेल भेज देती है तो विरोध में उमड़ते जनसैलाब को देख जेल से रिहा करने का फरमान जारी करवा देती है। अन्ना हजारे के सामने कभी अनशन के लिए शर्तों का पुलिंदा रख देती है तो कभी बिना शर्त सब कुछ सहज ढ़ंग से मानने को तैयार हो जाती है।

यह सब भली-भांति जानते हैं कि अभी तक जो भी कुछ हुआ है, सरकार के इशारे पर ही हुआ है, फिर भी सारी कार्रवाई पुलिस के मत्थे मढ़ने की पुरजोर कोशिशें मनमोहन की नाकारा और भ्रष्ट सरकार की तरफ से हुई हैं। अनशन के लिए कभी तीन दिन का समय दिए जाने की घोषणा की गई तो कभी सात दिन और बाद में जनता के पुरजोर विरोध को देखते हुए रामलीला मैदान में पन्द्रह दिन का समय दे दिया गया। बात समझ में नहीं आ रही है कि आखिर सरकार चाहती क्या है? मुद््दे पर आधारित अनशन की क्या कोई मियाद होती है? जिस मुद््दे को लेकर अनशन किया जा रहा है, वह एक घंटे में सुलट जाए या महीनांें भी लग जाएं। यह अनशन है, कोई प्रायोजित कार्यक्रम तो नहीं, जिसके समाप्त होने की कोई समय सीमा निर्धारित हो। अनशन या आन्दोलन समस्या को लेकर उत्पन्न होता है। किसी से पूछकर या इजाजत लेकर इसके हालात कभी नहीं बनतेे। सरकार या प्रशासन कभी भी अपने विरोध में आवाज उठाने की इजाजत नहीं दे सकते, इस यथार्थ को समझना होगा।

आज देश में बढ़ते भ्रष्टाचार, बढ़ती महंगाई को लेकर प्रायः सभी दुखी हैं, तभी तो भ्रष्टाचार के विरोध में छिड़ी जंग में अन्ना हजारे के साथ सभी हो चले हैं। क्या युवा, क्या बूढ़ा, सभी के सभी आजादी की लड़ाई की तरह अन्ना के साथ खड़े हैैं। साथ ही यह संदेश भी दे रहे हैं कि अन्ना एक नहीं, आज हजारों की तैदाद में हैं। अन्ना की आवाज पूरे देश की आवाज है। क्या ये स्वर सरकार में बैठे लोगों को सुनाई नहीं देते?

आज संसद में सरकार के नुमाइंदे जनप्रतिनिधियों की दुहाई दे रहे हैं, अन्ना को अकेले समझ रहे हैं। लोकतंत्र में चुने गए जनप्रतिनिधियो ंके अधिकार की चर्चा कर रहे हैं। जो मद में सब कुछ भूल गए हैं कि जनप्रतिनिधि के क्या अधिकार होते हैं? आज वे जन सेवा की भावना छोड़ सुविधाभोगी हो चले हैं, वेतनभोगी हो चले हैं। वे भूल गए हैं कि जनप्रतिनिधि का दर्जा देश में सर्वोपरि होता है, जिनके कार्यों की कोई कीमत नहीं होती पर आज वे लोकतंत्र में मिले अधिकार के बल स्वयं पेंशनधारी हो गए, हर काम की कीमत मनमाने ढंग से वसूल करने लगे। देश में टैक्स का दायरा बढ़ता गया, उद्योग धंधे बंद होते गए, महंगाई, मुनाफाखोरी बढ़ती रही और जनता का मत पाकर सत्ता में चूर रहे।

आखिर इस तरह के हालत के लिए कौन जिम्मेदार है? आज देश को अन्ना की जरूरत क्यों पड़ गई? दरअसल देश की जनता अन्ना के माध्यम से अपने चुने नुमाइंदों एवं सरकार से पूछना चाहती है। संसद का प्रतिनिधि सांसद तो देश के एक छोटे से भाग से चुनकर आता है, आज अन्ना के साथ तो पूरा देश दिखाई दे रहा है, जिस तरह कभी अंग्रेजों के खिलाफ छिड़ी जंग में महात्मा गांधी के साथ हो चला था। क्या यह सब कुछ सरकार में बैठे नुमाइंदों को दिखाई नहीं देता या जानबूझकर अनजान बन धृतराष्ट्र की तरह सत्ता मोह में डूब चले हैं।

देश में सभी को अपनी बात रखने का अधिकार है। जनलोकपाल विधेयक, जो जनमानस की आवाज बन चुका है, उसे मुद््दा एवं अपनी प्रतिष्ठा का प्रश्न न बनाकर इसे संसद में जनता द्वारा चुने प्रतिनिधियों के समक्ष आम चर्चा के लिए रखने का मानस बनाकर देश में उभरती जन-आवाज की अवधारणा का आदर करते हुए सरकार को इस ज्वलंत समस्या का समाधान शीघ्र से शीघ्र निकालना चाहिए। सरकार भी जब भ्रष्टाचार मिटाने की बात करती है तो उसे सिविल सोसायटी द्वारा निर्मित जनलोकपाल विधेयक को संसद में रखने में कोई एतराज नहीं होना चाहिए। इस संदर्भ में की गई देरी, जन आवाज को दबाने की अनर्गल कुचेष्टा देश को गंभीर संकट में डाल सकती है। आज इस तरह के हालात पर विश्व की नजरें टिकी हुई हैं। देश हित में जनलोकपाल के मुद््दे पर सरकार को गंभीरता से मंथन कर सकरात्मक कदम शीघ्र से शीघ्र उठाना चाहिए, जिससे देश में अमन चैन बना रहे। (एम सी एन)

Sunday, August 14, 2011

स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं

सभी को

स्वतंत्रता दिवस

की

हार्दिक शुभकामनाएं





तिरंगे की शान

फिल्मी मसाला

ऐसी छिपकली, जो निकलती है धूप में चश्मा लगाकर

हंसकर तो देखिये, जिंदगी खिल उठेगी

‘पीपीए’ युक्त दवाओं का सेवन और आपका स्वास्थ्य

‘स्वतंत्र वार्ता’ में अनोखे जीव-जंतु

स्वयं को वायलिन की तरह बजाते हैं लॉबस्टर

जीव-जंतु की अनोखी दुनिया

समय बहुमूल्य है, अतः एक-एक पल का सदुपयोग सार्थक कार्यों में करें.