आपकी उपयोगी रचनाओं एवं टिप्पणियों का स्वागत है.

उपयोगी सूचना

हिन्दी भाषा के समाचारपत्र तथा पत्रिकाएं यदि अपने प्रकाशनों के लिए ‘मीडिया केयर नेटवर्क’, ‘मीडिया एंटरटेनमेंट फीचर्स’ तथा ‘मीडिया केयर न्यूज’ की सेवाएं नियमित प्राप्त करना चाहें तो हमसे ई-मेल द्वारा सम्पर्क करें। आपके अनुरोध पर सेवा शुल्क संबंधी तथा अन्य अपेक्षित जानकारियां उपलब्ध करा दी जाएंगी।

हम इन फीचर एजेंसियों के डिस्पैच में निम्नलिखित विषयों पर रचनाएं प्रसारित करते हैं तथा डिस्पैच कोरियर अथवा ई-मेल द्वारा उपलब्ध कराए जाते हैं:-

राजनीतिक लेख, रिपोर्ट एवं विश्लेषणात्मक टिप्पणी, राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय चर्चा, सामयिक लेख, फिल्म लेख एवं स्टार इंटरव्यू, फिल्म गॉसिप, ज्ञानवर्द्धक एवं मनोरंजक लेख, रहस्य-रोमांच, घर परिवार, स्वास्थ्य, महिला जगत, युवा जगत, व्यंग्य, कथा-कहानी, मनोरंजन, कैरियर , खेल, हैल्थ अपडेट, खोज खबर, महत्वपूर्ण दिवस, त्यौहारों अथवा अवसरों पर लेख, बाल कहानी, बाल उपयोगी रचनाएं, रोचक जानकारियां इत्यादि।

लेखक तथा पत्रकार विभिन्न विषयों पर अपनी उपयोगी अप्रकाशित रचनाएं प्रकाशनार्थ ई-मेल द्वारा भेज सकते हैं।
Share/Bookmark

अभी तक यहां आए पाठक

Monday, February 07, 2011

दो बाल कविताएं


दादा दादी

कितने प्यारे दादा दादी,

कपड़े पहनें उजले खादी।

स्नेह नेह हर पल बरसाते,

मना मनाकर खूब खिलाते।

हमें सुनाते रोज कहानी,

एक था राजा, एक थी रानी।

सदा सिखाते अच्छी बातें,

मछली मांस कभी ना खाते।

हरदम जपते तुलसी माला,

नहीं करते कभी धंधा काला।

घर पर चलता उनका शासन,

कभी न देते कोरा भाषण। (एम सी एन) . रंजन कुमार शर्मा ‘रंजन’

कालूराम

मोटा तगड़ा कालूराम,

सबका प्यारा भालूराम।

ना करता यह छीना झपटी,

सादा, सरल, नहीं यह कपटी।

रूखा-सूखा इसका भोजन,

करता है सबका मनोरंजन।

शहर का है यह शौकीन,

इसे न भाए कुछ नमकीन।

नहीं किसी को कभी सताए,

नाच दिखाकर हमें हंसाए। (एम सी एन) . रंजन कुमार शर्मा ‘रंजन’

No comments:

समय बहुमूल्य है, अतः एक-एक पल का सदुपयोग सार्थक कार्यों में करें.