आपकी उपयोगी रचनाओं एवं टिप्पणियों का स्वागत है.

उपयोगी सूचना

हिन्दी भाषा के समाचारपत्र तथा पत्रिकाएं यदि अपने प्रकाशनों के लिए ‘मीडिया केयर नेटवर्क’, ‘मीडिया एंटरटेनमेंट फीचर्स’ तथा ‘मीडिया केयर न्यूज’ की सेवाएं नियमित प्राप्त करना चाहें तो हमसे ई-मेल द्वारा सम्पर्क करें। आपके अनुरोध पर सेवा शुल्क संबंधी तथा अन्य अपेक्षित जानकारियां उपलब्ध करा दी जाएंगी।

हम इन फीचर एजेंसियों के डिस्पैच में निम्नलिखित विषयों पर रचनाएं प्रसारित करते हैं तथा डिस्पैच कोरियर अथवा ई-मेल द्वारा उपलब्ध कराए जाते हैं:-

राजनीतिक लेख, रिपोर्ट एवं विश्लेषणात्मक टिप्पणी, राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय चर्चा, सामयिक लेख, फिल्म लेख एवं स्टार इंटरव्यू, फिल्म गॉसिप, ज्ञानवर्द्धक एवं मनोरंजक लेख, रहस्य-रोमांच, घर परिवार, स्वास्थ्य, महिला जगत, युवा जगत, व्यंग्य, कथा-कहानी, मनोरंजन, कैरियर , खेल, हैल्थ अपडेट, खोज खबर, महत्वपूर्ण दिवस, त्यौहारों अथवा अवसरों पर लेख, बाल कहानी, बाल उपयोगी रचनाएं, रोचक जानकारियां इत्यादि।

लेखक तथा पत्रकार विभिन्न विषयों पर अपनी उपयोगी अप्रकाशित रचनाएं प्रकाशनार्थ ई-मेल द्वारा भेज सकते हैं।
Share/Bookmark

अभी तक यहां आए पाठक

Monday, November 22, 2010

हैल्थ अपडेट


कोलेस्ट्रोल को भी नियंत्रित करती है हल्दी

हल्दी न सिर्फ भोजन का स्वाद बढ़ाने के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला एक मसाला है बल्कि यह कई बीमारियों में भी बहुत फायदेमंद है। हल्दी शरीर में कोलेस्ट्रोल की मात्रा को भी नियंत्रित करती है। हृदय की कई बीमारियों में भी यह बहुत असरकारक भूमिका निभाती है। चिकित्सा विज्ञानी डा. कृष्णा गोस्वामी के अनुसार हल्दी की अल्प मात्रा भी शरीर को कई रोगों से निजात दिला सकती है। डा. कृष्णा गोस्वामी बताती हैं कि हल्दी की मात्र एक ग्राम मात्रा भी व्यक्ति में कोलेस्ट्रोल से पैदा होने वाली जटिलताओं से मुक्ति दिला सकती है। यही नहीं, हल्दी शरीर के किसी भी अंग में ट्यूमर नहीं पनपने देने में भी बहुत अच्छी भूमिका निभाती है। (मीडिया एंटरटेनमेंट फीचर्स)

अवसाद (डिप्रैशन) क्या है?

अवसाद दिमागी बीमारी की सबसे सामान्य स्थिति है। एक अवसादग्रस्त व्यक्ति में गहरी उदासी तथा अनिच्छुकता की भावनाएं होती हैं। उसमें बहुत कम इच्छाशक्ति होती है। अवसाद वाले व्यक्ति आमतौर पर न तो सही ढ़ंग से खाना खा पाते हैं, न ही पर्याप्त नींद ले पाते हैं और न सही तरीके से अपना कार्य कर पाते हैं। बहुत से लोग, जो अवसाद के शिकार होते हैं, उन्हें एंटीडिप्रेसेंट दवाओं तथा काउंसलिंग से सहायता दी जा सकती है। (मीडिया एंटरटेनमेंट फीचर्स)

बच्चों के प्राथमिक दांत टूट जाएं तो क्या करें?

यदि बच्चे के प्राथमिक दांत (दूध के दांत) किसी दुर्घटनावश टूट जाएं तो उनके टूटने से उभरा खाली स्थान नया दांत निकलने से पहले ही अपने आप भर जाता है लेकिन ऐसा नहीं होने देना चाहिए बल्कि किसी दुर्घटना में प्र्राथमिक दांत टूटने पर खाली होने वाले स्थान को सुरक्षित रखने के लिए स्पेस मैटेनर का इस्तेमाल किया जाना चाहिए ताकि उस स्थान पर स्थायी दांत आसानी से निकल सकें। स्पेस मैटेनर प्रायः प्लास्टिक अथवा किसी धातु से बनाया जाता है। यह आने वाले नए दांत के लिए न केवल जगह सुरक्षित रखता है बल्कि जबड़े की अस्थि और मांसपेशियों को सामान्य रूप से विकसित होने में भी सहायता प्रदान करता है। (मीडिया एंटरटेनमेंट फीचर्स)

जुओं से बचें

सिर में जुएं होने पर प्रतिदिन बारीक कंघी से बालों को साफ करना तो आवश्यक है ही लेकिन चूंकि लीकें (जुएं) बालों में इस कदर चिपकी रहती हैं कि अक्सर बारीक कंघी से भी सारी जुएं नहीं निकल पाती, इसलिए बालों में नियमित रूप से कंघी करने के साथ-साथ जुएं होने पर किसी अच्छी क्वालिटी के जूं-नाशक लोशन या तेल का प्रयोग करें। कई ऐसे शैम्पू भी बाजार में उपलब्ध हैं, जिनके इस्तेमाल से बालों में जुएं मर जाती हैं और आप चैन की सांस ले सकते हैं। (मीडिया एंटरटेनमेंट फीचर्स)

No comments:

समय बहुमूल्य है, अतः एक-एक पल का सदुपयोग सार्थक कार्यों में करें.