आपकी उपयोगी रचनाओं एवं टिप्पणियों का स्वागत है.

उपयोगी सूचना

हिन्दी भाषा के समाचारपत्र तथा पत्रिकाएं यदि अपने प्रकाशनों के लिए ‘मीडिया केयर नेटवर्क’, ‘मीडिया एंटरटेनमेंट फीचर्स’ तथा ‘मीडिया केयर न्यूज’ की सेवाएं नियमित प्राप्त करना चाहें तो हमसे ई-मेल द्वारा सम्पर्क करें। आपके अनुरोध पर सेवा शुल्क संबंधी तथा अन्य अपेक्षित जानकारियां उपलब्ध करा दी जाएंगी।

हम इन फीचर एजेंसियों के डिस्पैच में निम्नलिखित विषयों पर रचनाएं प्रसारित करते हैं तथा डिस्पैच कोरियर अथवा ई-मेल द्वारा उपलब्ध कराए जाते हैं:-

राजनीतिक लेख, रिपोर्ट एवं विश्लेषणात्मक टिप्पणी, राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय चर्चा, सामयिक लेख, फिल्म लेख एवं स्टार इंटरव्यू, फिल्म गॉसिप, ज्ञानवर्द्धक एवं मनोरंजक लेख, रहस्य-रोमांच, घर परिवार, स्वास्थ्य, महिला जगत, युवा जगत, व्यंग्य, कथा-कहानी, मनोरंजन, कैरियर , खेल, हैल्थ अपडेट, खोज खबर, महत्वपूर्ण दिवस, त्यौहारों अथवा अवसरों पर लेख, बाल कहानी, बाल उपयोगी रचनाएं, रोचक जानकारियां इत्यादि।

लेखक तथा पत्रकार विभिन्न विषयों पर अपनी उपयोगी अप्रकाशित रचनाएं प्रकाशनार्थ ई-मेल द्वारा भेज सकते हैं।
Share/Bookmark

अभी तक यहां आए पाठक

Saturday, July 17, 2010

क्यों माना जाता है 13 का अंक अशुभ?


13 के अंक को बहुत से लोग अशुभ मानते हैं और न केवल हमारे यहां बल्कि दूसरे देशों में भी यह अंधविश्वास प्रचलित है। कई इमारतों में 13 से ज्यादा मंजिलें होने पर भी वहां 13वीं मंजिल नहीं होती। कुछ अस्पतालों में आपको 13 नंबर का वार्ड नहीं मिलेगा। बहुत से लोग 13 अंक को अशुभ मानने की वजह से इस तारीख को कोई शुभ कार्य भी नहीं करते। आखिर क्या वजह है कि दुनिया भर में 13 के अंक को इतना अशुभ माना जाता है?

इस बारे में कई प्रसंग प्रचलित हैं। कहा जाता है कि जीजस क्राइस्ट की आखिरी दावत में जीजस सहित कुल 13 व्यक्ति थे, जिनमें 12 उनके शिष्य थे। उसके बाद जीजस का अंत कर दिया गया था। तभी से 13 की संख्या को अशुभ माना जाने लगा।

13 को अशुभ मानने के संबंध मं एक यूनानी कथा भी प्रचलित है। माना जाता है कि वलहंला बैकंट में 12 देवताओं को आमंत्रित किया गया लेकिन उस दावत में लौकी नाम का एक शैतान जबरन घुस आया, जिससे वहां मौजूद लोगों की संख्या 13 हो गई, जिसका परिणाम यह हुआ कि उनके सबसे प्रिय देवता बाल्डर को मार दिया गया, जिसके बाद 13 के अंक को अशुभ माना जाने लगा। हालांकि इस प्रकार की मान्यताओं के पीछे कोई प्रामाणिक तथ्य नहीं है और न ही वास्तव में 13 की संख्या को अशुभ माने जाने के पीछे कोई अन्य प्रामाणिक कारण। किसी भी संख्या को शुभ या अशुभ मानना सिवाय अंधविश्वास के और कुछ नहीं है।

प्रस्तुति: योगेश कुमार गोयल

No comments:

समय बहुमूल्य है, अतः एक-एक पल का सदुपयोग सार्थक कार्यों में करें.