आपकी उपयोगी रचनाओं एवं टिप्पणियों का स्वागत है.

उपयोगी सूचना

हिन्दी भाषा के समाचारपत्र तथा पत्रिकाएं यदि अपने प्रकाशनों के लिए ‘मीडिया केयर नेटवर्क’, ‘मीडिया एंटरटेनमेंट फीचर्स’ तथा ‘मीडिया केयर न्यूज’ की सेवाएं नियमित प्राप्त करना चाहें तो हमसे ई-मेल द्वारा सम्पर्क करें। आपके अनुरोध पर सेवा शुल्क संबंधी तथा अन्य अपेक्षित जानकारियां उपलब्ध करा दी जाएंगी।

हम इन फीचर एजेंसियों के डिस्पैच में निम्नलिखित विषयों पर रचनाएं प्रसारित करते हैं तथा डिस्पैच कोरियर अथवा ई-मेल द्वारा उपलब्ध कराए जाते हैं:-

राजनीतिक लेख, रिपोर्ट एवं विश्लेषणात्मक टिप्पणी, राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय चर्चा, सामयिक लेख, फिल्म लेख एवं स्टार इंटरव्यू, फिल्म गॉसिप, ज्ञानवर्द्धक एवं मनोरंजक लेख, रहस्य-रोमांच, घर परिवार, स्वास्थ्य, महिला जगत, युवा जगत, व्यंग्य, कथा-कहानी, मनोरंजन, कैरियर , खेल, हैल्थ अपडेट, खोज खबर, महत्वपूर्ण दिवस, त्यौहारों अथवा अवसरों पर लेख, बाल कहानी, बाल उपयोगी रचनाएं, रोचक जानकारियां इत्यादि।

लेखक तथा पत्रकार विभिन्न विषयों पर अपनी उपयोगी अप्रकाशित रचनाएं प्रकाशनार्थ ई-मेल द्वारा भेज सकते हैं।
Share/Bookmark

अभी तक यहां आए पाठक

Saturday, July 17, 2010

बदलती जलवायु से निपटना सिखाएंगे पौधे


ब्रिटेन की दो शोध परिषदों ‘जैव प्रौद्योगिकी तथा जीव विज्ञान शोध परिषद’ (बीबीएसआरसी) और ‘प्राकृतिक पर्यावरण शोध परिषद’ द्वारा अनुदानित वैज्ञानिक यह अध्ययन कर रहे हैं कि पौधे कैसे प्राकृतिक तौर पर बदलती जलवायु के साथ अपनी अनुकूलता बैठा लेते हैं। उन्होंने एक ऐसी खोज की है, जो हमें नई किस्म की फसलों को पैदा करने में मदद कर सकती है, जो फसलें बदलती जलवायु में भी खुद को बचाए रख सकें। इस खोज का महत्व इस तथ्य में निहित है कि यह प्रदर्शित करता है कि कैसे एक प्रजाति कम अवधि में विभिन्न जलवायु परिवर्तनों के प्रति विभिन्न किस्म की प्रतिक्रियाएं विकसित करने में सक्षम होती हैं। ‘जॉन आईनेस संेटर’ के शोधकर्ता यह पता लगाने में जुटे हैं कि पौधे किस तरीके से सर्दियों की ठंड को इस्तेमाल कर फूल पैदा कर सकते हैं, जिसके लिए वसंत की गर्माहट जरूरी होती है। यह प्रक्रिया, जिसे ‘वर्नलाइजेशन’ कहते हैं, एक ही पौध प्रजाति के भीतर स्थानीय जलवायु के मुताबिक भिन्न हो सकती है। यह पाया गया है कि एक विशेष आनुवंशिक सूत्र एफएलसी ही सर्दियों में फूलों के पैदा होने में विलम्ब की वजह है। शोध टीम ने यह खोज निकाला कि सर्दियां एफएलसी को निष्क्रिय कर देती हैं और वसंत इसे सक्रिय कर देता है। ब्रिटेन जैसे देश में पौधों को एफएलसी निष्क्रिय करने के लिए मात्र चार हफ्तों की ठंड ही चाहिए होती है। शोध टीम की प्रमुख प्रो. कैरोलीन डीन के अनुसार किस तरीके से एडिनबर्ग और उत्तरी स्केनडीनेविया में पतझड़ और ठंड के दौरान एक ओर जहां एफएलसी का स्तर समान रहा, वहीं उसके निष्क्रिय होने में लगने वाला समय भिन्न रहा। वह कहती हैं, ‘‘यह जानना दिलचस्प होगा कि पौधे किस तरह विभिन्न जलवायु के मुताबिक खुद को अनुकूल बना लेते हैं, जिसकी मदद से हम ग्लोबल वार्मिंग के दौर में ऐसी खाद्य फसलें उगा सकें, जो उसके अनुकूल हों।’ञ बीबीएसआरसी की मुख्य कार्यकारी प्रो. जुलिया गुडफेलो ने भी उपर्युक्त आवश्यकता पर बल दिया है। जेआईसी नॉर्विश शोध पार्क मंे स्थित है और उसे बीबीएसआरसी से अनुदान मिलता है। गौरतलब है कि ब्रिटेन जैव प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में अग्रणी स्थान रखता है और यूरोप की सार्वजनिक जैव प्रौद्योगिकी कम्पनियांे में 75 फीसदी ब्रिटेन की हैं।
प्रस्तुति: योगेश कुमार गोयल

No comments:

समय बहुमूल्य है, अतः एक-एक पल का सदुपयोग सार्थक कार्यों में करें.