आपकी उपयोगी रचनाओं एवं टिप्पणियों का स्वागत है.

उपयोगी सूचना

हिन्दी भाषा के समाचारपत्र तथा पत्रिकाएं यदि अपने प्रकाशनों के लिए ‘मीडिया केयर नेटवर्क’, ‘मीडिया एंटरटेनमेंट फीचर्स’ तथा ‘मीडिया केयर न्यूज’ की सेवाएं नियमित प्राप्त करना चाहें तो हमसे ई-मेल द्वारा सम्पर्क करें। आपके अनुरोध पर सेवा शुल्क संबंधी तथा अन्य अपेक्षित जानकारियां उपलब्ध करा दी जाएंगी।

हम इन फीचर एजेंसियों के डिस्पैच में निम्नलिखित विषयों पर रचनाएं प्रसारित करते हैं तथा डिस्पैच कोरियर अथवा ई-मेल द्वारा उपलब्ध कराए जाते हैं:-

राजनीतिक लेख, रिपोर्ट एवं विश्लेषणात्मक टिप्पणी, राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय चर्चा, सामयिक लेख, फिल्म लेख एवं स्टार इंटरव्यू, फिल्म गॉसिप, ज्ञानवर्द्धक एवं मनोरंजक लेख, रहस्य-रोमांच, घर परिवार, स्वास्थ्य, महिला जगत, युवा जगत, व्यंग्य, कथा-कहानी, मनोरंजन, कैरियर , खेल, हैल्थ अपडेट, खोज खबर, महत्वपूर्ण दिवस, त्यौहारों अथवा अवसरों पर लेख, बाल कहानी, बाल उपयोगी रचनाएं, रोचक जानकारियां इत्यादि।

लेखक तथा पत्रकार विभिन्न विषयों पर अपनी उपयोगी अप्रकाशित रचनाएं प्रकाशनार्थ ई-मेल द्वारा भेज सकते हैं।
Share/Bookmark

अभी तक यहां आए पाठक

Sunday, March 20, 2011

क्या आप जानते हैं?


लड़कियों से अधिक संवेदनशील होते हैं लड़के

एक अध्ययन के बाद यह बात सामने आई है कि लड़कियों के मुकाबले लड़के अधिक संवेदनशील होते हैं। अध्ययनकर्ता मनोवैज्ञानिक सेबेस्टिन क्रैमर का कहना है कि पुरूषों पर समाज द्वारा दबाव डाला जाता है कि वे कठोर बनें और भावुकता से दूर रहें। पैदा होने के बाद भी लड़के लड़कियों के मुकाबले अधिक कमजोर होते हैं और बचपन तथा किशोरावस्था में भी लड़कों को लड़कियों से अधिक परेशानियों का सामना करना पड़ता है। क्रैमर कहते हैं कि लड़कों को शुरू से ही कठोर समझा जाता है और उनके मनोवैज्ञानिक विकास की ओर कोई ध्यान नहीं दिया जाता। समाज लड़कों को कोमल हृदय एवं संवेदनशील नहीं बनने देता। यदि कोई लड़का शांत स्वभाव का है अथवा भावुक होकर रोने लगता है तो लोग उसका मजाक उड़ाने लगते हैं। क्रैमर के अनुसार संभवतः यही कारण है कि लड़कियां परीक्षाओं में लड़कों के मुकाबले अच्छे नंबर लाती हैं क्योंकि लड़कियों पर अक्सर कोई दबाव नहीं डाला जाता। किशोरावस्था में लड़कों द्वारा आत्महत्या करने की प्रवृत्ति भी लड़कियों के मुकाबले अधिक होती है क्योंकि वे भावनाओं और दबावों के बीच फंस जाते हैं। (मीडिया एंटरटेनमेंट फीचर्स)

समय बहुमूल्य है, अतः एक-एक पल का सदुपयोग सार्थक कार्यों में करें.