आपकी उपयोगी रचनाओं एवं टिप्पणियों का स्वागत है.

उपयोगी सूचना

हिन्दी भाषा के समाचारपत्र तथा पत्रिकाएं यदि अपने प्रकाशनों के लिए ‘मीडिया केयर नेटवर्क’, ‘मीडिया एंटरटेनमेंट फीचर्स’ तथा ‘मीडिया केयर न्यूज’ की सेवाएं नियमित प्राप्त करना चाहें तो हमसे ई-मेल द्वारा सम्पर्क करें। आपके अनुरोध पर सेवा शुल्क संबंधी तथा अन्य अपेक्षित जानकारियां उपलब्ध करा दी जाएंगी।

हम इन फीचर एजेंसियों के डिस्पैच में निम्नलिखित विषयों पर रचनाएं प्रसारित करते हैं तथा डिस्पैच कोरियर अथवा ई-मेल द्वारा उपलब्ध कराए जाते हैं:-

राजनीतिक लेख, रिपोर्ट एवं विश्लेषणात्मक टिप्पणी, राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय चर्चा, सामयिक लेख, फिल्म लेख एवं स्टार इंटरव्यू, फिल्म गॉसिप, ज्ञानवर्द्धक एवं मनोरंजक लेख, रहस्य-रोमांच, घर परिवार, स्वास्थ्य, महिला जगत, युवा जगत, व्यंग्य, कथा-कहानी, मनोरंजन, कैरियर , खेल, हैल्थ अपडेट, खोज खबर, महत्वपूर्ण दिवस, त्यौहारों अथवा अवसरों पर लेख, बाल कहानी, बाल उपयोगी रचनाएं, रोचक जानकारियां इत्यादि।

लेखक तथा पत्रकार विभिन्न विषयों पर अपनी उपयोगी अप्रकाशित रचनाएं प्रकाशनार्थ ई-मेल द्वारा भेज सकते हैं।
Share/Bookmark

अभी तक यहां आए पाठक

Saturday, August 21, 2010

रंग बिरंगी दुनिया


बेतुके शोधों पर भी एक शोध

पश्चिमी देशों में हर साल विभिन्न विषयों से संबंधित सैंकड़ों शोध किए जाते हैं। आए दिन कोई न कोई नया शोध होता है, जिनमें से कई शोध तो ऐसे भी होते हैं, जिनका कोई सिर-पैर नहीं होता। मजे की बात यह है कि आए दिन होने वाले इन शोधों पर ही लंदन में एक शोध किया गया, जिसमें पाया गया कि तरह-तरह की बातों को लेकर किए जाने वाले इन बेतुके शोधों पर लाखों-करोड़ों रुपये बर्बाद कर दिए जाते हैं, जिनका नतीजा कुछ नहीं निकलता।

शोधकर्ताओं के मुताबिक बेतुकी बातों पर किए जाने वाले इन शोधों पर अनाप-शनाप खर्च किया जाता है। लंदन की ‘बाईजेयर’ नामक पत्रिका द्वारा रिसर्च प्रोजेक्टों पर कराए गए इस अनोखे शोध से पता चला कि सिर्फ ब्रिटेन में ही बहुत से हास्यास्पद विषयों पर किए जाने वाले शोधों पर हर साल लाखों पौंड बर्बाद कर दिए जाते हैं।

बिजली की चोरी पकड़ी गई 60 साल बाद

भारत में तो आज लगभग हर गली-मुहल्ले में बिजली चोरी की घटनाएं होती ही हैं और बिजली विभाग लाख कोशिशों के बाद भी बिजली चोरों पर लगाम कसने में नाकामयाब ही रहता है क्योंकि बिजली चोरी के अधिकांश मामलों में बिजली विभाग के कर्मचारियों की मिलीभगत होती है लेकिन ऐसा भी नहीं है कि बिजली चोरी की समस्या अकेले भारत की ही समस्या हो बल्कि विकसित देश भी अपने तमाम महंगे एवं अत्याधुनिक तामझाम के बावजूद इस समस्या से त्रस्त हैं।

न्यूयार्क में कुछ समय पहले पकड़ी गई बिजली चोरी की एक वारदात से तो इस बात का स्पष्ट प्रमाण भी मिला कि पश्चिमी देशों में बिजली चोरी की वारदातें कई दशकों पहले से हो रही हैं। यह बात उस समय उजागर हुई, जब लगातार 60 वर्षों से बिजली की चोरी कर रहे एक 91 वर्षीय वृद्ध व्यक्ति को उसी के द्वारा की गई शिकायत के कारण पकड़ा गया। हालांकि इस व्यक्ति ने अपने ही द्वारा की जा रही बिजली की चोरी की शिकायत नहीं की थी बल्कि अपने घर की बिजली एक दिन अचानक बंद हो जाने पर उसने पावर कम्पनी को इसकी शिकायत की थी।

वृद्ध द्वारा शिकायत दर्ज कराए जाने के बाद जब बिजली कर्मचारी उसके घर फाल्ट ढूंढ़ने आए तो उनकी नजर क्लैंरस स्टकी नामक इस वृद्ध व्यक्ति द्वारा लिए गए फर्जी कनैक्शन पर पड़ गई और इस तरह अनजाने में ही बिजली चोरी की इस बहुत पुरानी घटना का अंत हो गया।

फर्जी कनैक्शन पकड़े जाने के बाद स्टकी ने स्वीकार भी किया कि उसने अपने घर के सामने से गुजरने वाली बिजली की लाइन में बीच से तार डालकर अपने घर में बिजली का कनैक्शन ले रखा था। उसने यह भी माना कि वह पिछले 60 सालों से इसी तरह फर्जी कनैक्शन के जरिये बिजली का इस्तेमाल कर रहा है।

इस रहस्योद्घाटन के बाद संबंधित पावर कम्पनी ‘द लोगन लाइट एंड पावर कम्पनी’ का कहना था कि कानून के अनुसार हालांकि स्टकी से पूरे 60 साल का पैसा तो नहीं लिया जा सकता लेकिन फिर भी उसे सात सालों के दौरान इस्तेमाल की गई बिजली के पैसे तो भरने ही पड़ेंगे, जो भारतीय मुद्रा में करीब 38 लाख 54 हजार रुपये बनते हैं। बिजली कम्पनी के वरिष्ठ अधिकारियों का यह भी कहना था कि वह स्टकी की उसकी वृद्धावस्था का ख्याल करते हुए उसे जेल में तो बंद नहीं कराना चाहते लेकिन उसके द्वारा इस्तेमाल की गई बिजली का पूरा पैसा तो कम्पनी वसूल करेगी ही।
प्रस्तुति: योगेश कुमार गोयल

No comments:

समय बहुमूल्य है, अतः एक-एक पल का सदुपयोग सार्थक कार्यों में करें.