आपकी उपयोगी रचनाओं एवं टिप्पणियों का स्वागत है.

उपयोगी सूचना

हिन्दी भाषा के समाचारपत्र तथा पत्रिकाएं यदि अपने प्रकाशनों के लिए ‘मीडिया केयर नेटवर्क’, ‘मीडिया एंटरटेनमेंट फीचर्स’ तथा ‘मीडिया केयर न्यूज’ की सेवाएं नियमित प्राप्त करना चाहें तो हमसे ई-मेल द्वारा सम्पर्क करें। आपके अनुरोध पर सेवा शुल्क संबंधी तथा अन्य अपेक्षित जानकारियां उपलब्ध करा दी जाएंगी।

हम इन फीचर एजेंसियों के डिस्पैच में निम्नलिखित विषयों पर रचनाएं प्रसारित करते हैं तथा डिस्पैच कोरियर अथवा ई-मेल द्वारा उपलब्ध कराए जाते हैं:-

राजनीतिक लेख, रिपोर्ट एवं विश्लेषणात्मक टिप्पणी, राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय चर्चा, सामयिक लेख, फिल्म लेख एवं स्टार इंटरव्यू, फिल्म गॉसिप, ज्ञानवर्द्धक एवं मनोरंजक लेख, रहस्य-रोमांच, घर परिवार, स्वास्थ्य, महिला जगत, युवा जगत, व्यंग्य, कथा-कहानी, मनोरंजन, कैरियर , खेल, हैल्थ अपडेट, खोज खबर, महत्वपूर्ण दिवस, त्यौहारों अथवा अवसरों पर लेख, बाल कहानी, बाल उपयोगी रचनाएं, रोचक जानकारियां इत्यादि।

लेखक तथा पत्रकार विभिन्न विषयों पर अपनी उपयोगी अप्रकाशित रचनाएं प्रकाशनार्थ ई-मेल द्वारा भेज सकते हैं।
Share/Bookmark

अभी तक यहां आए पाठक

Friday, October 01, 2010

गर्भ में ही ठीक हो सकेगी शिशु के फेफड़ों की विकृति?


गर्भस्थ शिशुओं में होने वाली एक अज्ञात विकृति की वजह से उनके फेफड़ों का विकास अवरूद्ध हो जाता है और उनके जीवित बचने की संभावना भी कम हो जाती है। गर्भस्थ शिशुओं की इस बीमारी को ‘कॉन्जेनिटल डायफ्राम हर्निया’ (सीडीएच) कहा जाता है। अब ऐसे शिशुओं को बचाने के लिए ल्यूवेन के अलावा लंदन तथा बार्सिलोना में भी गर्भ में ही एक ऐसा ऑपरेशन किया जाने लगा है, जिससे फेफड़ों का सही विकास सुनिश्चित हो सके। डॉक्टर इस ऑपरेशन के जरिये इस विकृति से पीड़ित करीब 60 फीसदी बच्चों को बचाने में सफल भी रहे हैं, जिनकी मौत सुनिश्चित मानी जा रही थी।

यह ऑपरेशन करने वाले डा. काइप्रोस निकोलैड्स का कहना है कि प्रतिवर्ष करीब 3000 गर्भस्थ बच्चों के फेफड़ों का विकास नहीं हो पाता और ऐसा क्यों होता है, इसका कारण अभी तक पता नहीं चल सका है। रूटीन स्क्रीनिंग के दौरान जिन शिशुओं में इसकी पहचान हो जाती है, उनमें से आधे ही जीवित बच पाते हैं। इस बीमारी में गर्भस्थ शिशु के डायफ्राम, जो कि पेट के क्षेत्र को सीने के क्षेत्र से अलग करता है, में एक छेद होता है। इस छेद के कारण पेट के क्षेत्र के अंग सीने के क्षेत्र की तरफ आने लगते हैं और फेफड़ों को दबा देते हैं, जिससे इनका विकास रूक जाता है।

इस बीमारी के इलाज के लिए गर्भावस्था के 26वें सप्ताह में एक की-होल ऑपरेशन करके शिशु के मुंह के जरिये एक गुब्बारा उसके फेफड़े में डाला जाता है ताकि विण्ड पाइप को अवरूद्ध किया जा सके। इस गुब्बारे को फेफड़े में फुलाकर वहीं छोड़ दिया जाता है, जिससे फेफड़े में होने वाला स्राव विण्ड पाइप के जरिये बाहर नहीं निकल पाता और इससे फेफड़ों को विकसित करने का पूरा अवसर मिलता है। बच्चे के जन्म के तुरंत बाद इस गुब्बारे को फोड़ दिया जाता है या इसे निकाल दिया जाता है और कुछ दिनों बाद एक छोटा सा ऑपरेशन करके डायफ्राम का छेद बंद कर दिया जाता है।

डा. निकोलैड्स के मुताबिक फेफड़े में होने वाले स्राव में विकास हारमोन होते हैं, जो मुंह और नाक के जरिये बाहर निकल जाते हैं, इसलिए हम लोगों ने इस स्राव को फेफड़े में ही रोकने का प्रयास करने का फैसला किया। डा. निकोलैड्स बताते हैं कि पहले 10 ऑपरेशनों में सफलता का प्रतिशत महज 30 था, जो बाद में बढ़कर 63.6 हो गया।
 
प्रस्तुति: योगेश कुमार गोयल

No comments:

समय बहुमूल्य है, अतः एक-एक पल का सदुपयोग सार्थक कार्यों में करें.