आपकी उपयोगी रचनाओं एवं टिप्पणियों का स्वागत है.

उपयोगी सूचना

हिन्दी भाषा के समाचारपत्र तथा पत्रिकाएं यदि अपने प्रकाशनों के लिए ‘मीडिया केयर नेटवर्क’, ‘मीडिया एंटरटेनमेंट फीचर्स’ तथा ‘मीडिया केयर न्यूज’ की सेवाएं नियमित प्राप्त करना चाहें तो हमसे ई-मेल द्वारा सम्पर्क करें। आपके अनुरोध पर सेवा शुल्क संबंधी तथा अन्य अपेक्षित जानकारियां उपलब्ध करा दी जाएंगी।

हम इन फीचर एजेंसियों के डिस्पैच में निम्नलिखित विषयों पर रचनाएं प्रसारित करते हैं तथा डिस्पैच कोरियर अथवा ई-मेल द्वारा उपलब्ध कराए जाते हैं:-

राजनीतिक लेख, रिपोर्ट एवं विश्लेषणात्मक टिप्पणी, राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय चर्चा, सामयिक लेख, फिल्म लेख एवं स्टार इंटरव्यू, फिल्म गॉसिप, ज्ञानवर्द्धक एवं मनोरंजक लेख, रहस्य-रोमांच, घर परिवार, स्वास्थ्य, महिला जगत, युवा जगत, व्यंग्य, कथा-कहानी, मनोरंजन, कैरियर , खेल, हैल्थ अपडेट, खोज खबर, महत्वपूर्ण दिवस, त्यौहारों अथवा अवसरों पर लेख, बाल कहानी, बाल उपयोगी रचनाएं, रोचक जानकारियां इत्यादि।

लेखक तथा पत्रकार विभिन्न विषयों पर अपनी उपयोगी अप्रकाशित रचनाएं प्रकाशनार्थ ई-मेल द्वारा भेज सकते हैं।
Share/Bookmark

अभी तक यहां आए पाठक

Wednesday, June 09, 2010

टांगों से खून की पिचकारी छोड़ता है ‘लेडी बर्ड’

-- योगेश कुमार गोयल (मीडिया केयर नेटवर्क)

जी नहीं, ‘लेडी बर्ड’ अपने नाम के अनुरूप कोई मादा पक्षी नहीं है, न ही यह कोई नर पक्षी है बल्कि वास्तव में यह एक ऐसा आकर्षक रंग-बिरंगा भुनगा है, जो अपनी टांगों से खून की पिचकारी छोड़ने के लिए जाना जाता है। यह भुनगा अपनी टांगों से खून की पिचकारी बेवजह ही नहीं छोड़ता बल्कि जब यह किसी दूसरे जीव-जंतु को देखकर घबरा जाता है या भयभीत होता है, तभी अपनी टांगों से रक्त की पिचकारी छोड़ता है। सवाल यह है कि आखिर टांगों से इतना खून निकाल देने के बाद भी यह जीवित कैसे रहता है? इसका कारण यह है कि इस भुनगे के शरीर में सिर्फ रक्तवाहिनियों में ही रक्त नहीं रहता बल्कि इसके पूरे शरीर में रक्त भरा रहता है। सारे शरीर में भरा यह रक्त इसके सभी अंग-प्रत्यंगों को भिगोये रखता है। जब यह कोई खतरा भांपकर भयभीत अवस्था में रक्त की पिचकारी छोड़ना चाहता है, तब यह अपने पेट को दबाकर शरीर में रक्त दबाव बढ़ा लेता है। इस वजह से इसकी टांगों के जोड़ों की पतली त्वचा एकाएक फट जाती है और वहां से खून ऐसे निकल पड़ता है, मानो इसने खून की पिचकारी छोड़ी हो। (एम सी एन)

No comments:

समय बहुमूल्य है, अतः एक-एक पल का सदुपयोग सार्थक कार्यों में करें.