आपकी उपयोगी रचनाओं एवं टिप्पणियों का स्वागत है.

उपयोगी सूचना

हिन्दी भाषा के समाचारपत्र तथा पत्रिकाएं यदि अपने प्रकाशनों के लिए ‘मीडिया केयर नेटवर्क’, ‘मीडिया एंटरटेनमेंट फीचर्स’ तथा ‘मीडिया केयर न्यूज’ की सेवाएं नियमित प्राप्त करना चाहें तो हमसे ई-मेल द्वारा सम्पर्क करें। आपके अनुरोध पर सेवा शुल्क संबंधी तथा अन्य अपेक्षित जानकारियां उपलब्ध करा दी जाएंगी।

हम इन फीचर एजेंसियों के डिस्पैच में निम्नलिखित विषयों पर रचनाएं प्रसारित करते हैं तथा डिस्पैच कोरियर अथवा ई-मेल द्वारा उपलब्ध कराए जाते हैं:-

राजनीतिक लेख, रिपोर्ट एवं विश्लेषणात्मक टिप्पणी, राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय चर्चा, सामयिक लेख, फिल्म लेख एवं स्टार इंटरव्यू, फिल्म गॉसिप, ज्ञानवर्द्धक एवं मनोरंजक लेख, रहस्य-रोमांच, घर परिवार, स्वास्थ्य, महिला जगत, युवा जगत, व्यंग्य, कथा-कहानी, मनोरंजन, कैरियर , खेल, हैल्थ अपडेट, खोज खबर, महत्वपूर्ण दिवस, त्यौहारों अथवा अवसरों पर लेख, बाल कहानी, बाल उपयोगी रचनाएं, रोचक जानकारियां इत्यादि।

लेखक तथा पत्रकार विभिन्न विषयों पर अपनी उपयोगी अप्रकाशित रचनाएं प्रकाशनार्थ ई-मेल द्वारा भेज सकते हैं।
Share/Bookmark

अभी तक यहां आए पाठक

Saturday, June 12, 2010

सकारात्मक दृष्टिकोण रखें, स्वस्थ रहें

प्रस्तुति: योगेश कुमार गोयल

शोधकर्ताओं का कहना है कि शारीरिक कमियों और बीमारियों से जल्दी छुटकारा पाने में व्यक्ति का सकारात्मक दृष्टिकोण बहुत उपयोगी साबित होता है। उनका कहना है कि भले ही आप दिल की बीमारी से पीड़ित हों, आपका ऑपरेशन होने जा रहा हो या आप किसी पुरानी शारीरिक बीमारी से परेशान हों, इन तमाम तकलीफों से मुक्ति पाकर आप कितनी जल्दी चुस्त-दुरूस्त हो सकते हैं, यह तय करने में आपका दृष्टिकोण बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। सकारात्मक विचारों से भरपूर व्यक्ति अपनी इच्छाशक्ति के दम पर बीमारी से लड़ने का हौंसला पैदा कर लेता है और सामान्य होने के लिए दवाएं जितनी महत्वपूर्ण होती हैं, उतना ही महत्वपूर्ण व्यक्ति का जीवन के प्रति सकारात्मक रवैया भी होता है।

शोधकर्ता हालांकि यह बता पाने में असमर्थ हैं कि आखिर सकारात्मक विचार किस तरह बीमारियों से लड़कर दुरूस्त होने में मदद करते हैं। शोध टीम के प्रमुख डा. डोनाल्ड सी कोल ने इस विषय पर इससे पूर्व किए गए सभी शोधों का अध्ययन करने के बाद स्वयं भी मरीजों के विचारों, उनके स्वयं के ठीक होने या न होने के दृष्टिकोण तथा इलाज के बाद उनकी स्वास्थ्य रिपोर्टों का गहन अध्ययन किया। अध्ययन के दौरान उन्होंने पाया कि जिन लोगों का अपने ठीक होने के प्रति सकारात्मक रवैया था, उनके स्वास्थ्य परिणाम दूसरों की तुलना में ज्यादा बेहतर पाए गए और वे दूसरों की तुलना में जल्दी ठीक हो गए। डा. कोल का कहना है कि इस अध्ययन में इस बात के प्रमाण मिले हैं कि नकारात्मक मनोवृत्ति रखने वाले लोग इसके वशीभूत होकर स्वयं परेशानियों के सामने घुटने टेक देते हैं और वे उनसे डटकर मुकाबला करने का साहस जुटाने के बजाय यह मान बैठते हैं कि अब वे कभी सामान्य नहीं हो पाएंगे। मरीजों के ऐसे विचार ही उनके जल्दी ठीक हो जाने के अवसरों को कम करते हैं। डा. कोल का कहना है कि मरीज को उसके नकारात्मक दृष्टिकोण से उबारने में मनोवैज्ञानिक काफी सहयोग कर सकते हैं। (मीडिया एंटरटेनमेंट फीचर्स)

2 comments:

अनामिका की सदाये...... said...

badhiya article.

Media Care Group said...

अनामिका जी,
टिप्पणी के लिए धन्यवाद.

समय बहुमूल्य है, अतः एक-एक पल का सदुपयोग सार्थक कार्यों में करें.