आपकी उपयोगी रचनाओं एवं टिप्पणियों का स्वागत है.

उपयोगी सूचना

हिन्दी भाषा के समाचारपत्र तथा पत्रिकाएं यदि अपने प्रकाशनों के लिए ‘मीडिया केयर नेटवर्क’, ‘मीडिया एंटरटेनमेंट फीचर्स’ तथा ‘मीडिया केयर न्यूज’ की सेवाएं नियमित प्राप्त करना चाहें तो हमसे ई-मेल द्वारा सम्पर्क करें। आपके अनुरोध पर सेवा शुल्क संबंधी तथा अन्य अपेक्षित जानकारियां उपलब्ध करा दी जाएंगी।

हम इन फीचर एजेंसियों के डिस्पैच में निम्नलिखित विषयों पर रचनाएं प्रसारित करते हैं तथा डिस्पैच कोरियर अथवा ई-मेल द्वारा उपलब्ध कराए जाते हैं:-

राजनीतिक लेख, रिपोर्ट एवं विश्लेषणात्मक टिप्पणी, राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय चर्चा, सामयिक लेख, फिल्म लेख एवं स्टार इंटरव्यू, फिल्म गॉसिप, ज्ञानवर्द्धक एवं मनोरंजक लेख, रहस्य-रोमांच, घर परिवार, स्वास्थ्य, महिला जगत, युवा जगत, व्यंग्य, कथा-कहानी, मनोरंजन, कैरियर , खेल, हैल्थ अपडेट, खोज खबर, महत्वपूर्ण दिवस, त्यौहारों अथवा अवसरों पर लेख, बाल कहानी, बाल उपयोगी रचनाएं, रोचक जानकारियां इत्यादि।

लेखक तथा पत्रकार विभिन्न विषयों पर अपनी उपयोगी अप्रकाशित रचनाएं प्रकाशनार्थ ई-मेल द्वारा भेज सकते हैं।
Share/Bookmark

अभी तक यहां आए पाठक

Tuesday, May 25, 2010

हैल्थ अपडेट : निकोटीन से टी. बी. जीवाणु का सफाया

प्रस्तुति: योगेश कुमार गोयल (मीडिया एंटरटेनमेंट फीचर्स)

यह सही है कि सिगरेट में मौजूद निकोटीन को स्वास्थ्य के लिए हानिकारक तत्व माना जाता है क्योंकि निकोटीन धूम्रपान करने वाले को इसका आदी बनाकर फेफड़ों को नुकसान पहुंचाती है लेकिन क्या आप जानते हैं कि यही निकोटीन टी.बी. (तपेदिक) पैदा करने वाले जीवाणुओं का नाश भी करती है। जी हां, यह कहना है यूनिवर्सिटी ऑफ सेंट्रल फ्लोरिडा के प्रमुख शोधकर्ता डा. सलेह नासेर का। डा. सलेह नासेर कहते हैं कि तम्बाकू में पाई जाने वाली निकोटीन सिर्फ माइक्रोबैक्टीरियम ट्यूबर क्लोसिस का ही नहीं बल्कि अन्य शक्तिशाली जीवाणुओं का भी सफाया करती है। शोधकर्ताओं का कहना है कि निकोटीन टीबी बैक्टीरिया का विकास ही नहीं रोकती बल्कि उसे पूरी तरह नष्ट कर देती है। जब शोध के दौरान प्रयोगशाला में खतरनाक जीवाणुओं पर बहुत थोड़ी मात्रा में निकोटीन डाला गया तो सभी जीवाणु मर गए। तपेदिक फैलाने वाले जीवाणुओं को मारने में एक सिगरेट में मौजूद निकोटीन से भी कम मात्रा का उपयोग किया गया था।

इस शोध का अर्थ यह नहीं है कि निकोटीन का यह लाभ सिगरेट के जरिये इसका सेवन करने से भी मिल सकेगा। सिगरेट पीने पर शरीर में निकोटीन सिर्फ और सिर्फ नुकसान ही पहुंचाएगा और इससे किसी भी तरह के स्वास्थ्य लाभ की कामना नहीं की जा सकती। सिगरेट पीने या तम्बाकू खाने पर निकोटीन का यह लाभ इसलिए नहीं मिल सकेगा क्योंकि इसमें ‘कारसिनोजेन’ नामक यौगिक भी मौजूद होते हैं, जो कैंसर को बढ़ावा देते हैं। वैसे अभी तक यह पता नहीं चल सका है कि निकोटीन अत्यंत हानिकारक बैक्टीरिया को भी कैसे नष्ट करता है। (मीडिया एंटरटेनमेंट फीचर्स)

No comments:

समय बहुमूल्य है, अतः एक-एक पल का सदुपयोग सार्थक कार्यों में करें.